गणतंत्र दिवस पर शायरी – Republic Day Shayari in Hindi – 26 जनवरी 2020- गणतंत्र दिवस पर शेर

Contents [show]
71st republic day :  गणतंत्र दिवस यानि की रिपब्लिक डे इस दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था और पुरे देश में इसे लागू किया गया था हमारे देश का संविधान 26 नवंबर 1949 को बन कर लागू उसके बाद 26 जनवरी 1950 में इसे पुरे राष्ट्र में लागू कर दिया गया | जिसके लिए पुरे देश में हर साल २६ जनुअरी के दिन ही गणतंत्र दिवस मनाया जाता है इसीलिए हमारे कुछ देशभक्त शायरों ने गणततंत्र दिवस के ऊपर कुछ बेहतरीन पंक्तिया लिखी है जो की आप पढ़ सकते है इन्हे पढ़ कर आप २६ जनवरी रिपब्लिक डे के बारे में जान सकते है |

26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर शायरी

26 जनवरी क्यों मनाई जाती है: भारत में गणतंत्र और संविधान की स्थापना के उपलक्ष में यह दिन मनाया जाता है |
अगर आप republic day sher जानना चाहते है तो इसके लिए आप हमारी इस पोस्ट को पढ़ सकते है इसके अलावा अगर आप gantantra diwas ki shayari, 71st republic day, shayari in hindi fonts, language, pdf, words तथा इनके कविता SMS या मैसेज के बारे में भी जान सकते है इसके अलावा इनकी इमेज पिक्चर्स, फोटोज़, वॉलपेपर को यहाँ से free download भी कर सकते है :

Shayari for soilders in Hindi

ना सरकार मेरी है , ना रौब मेरा है,
ना बड़ा सा नाम मेरा है।
मुझे बस एक छोटी सी बात का अभिमान है,
मैं हिंदुस्तान का हूँ और हिंदुस्तान मेरा है।

बचपन का वो भी एक दौर था
गणतंत्र में भी खुशी का शोर था।
ना जाने क्यू में इतना बड़ा हो गया
इंसानियत में मजहबी बैर हो गया।।

ये नफरत बुरी है ना पालो इसे
दिलों में नफरत है निकालो इसे
ना तेरा, ना मेरा, ना इसका, ना उसका
ये सब का वतन है बचालो इसे

देश भक्तो की बलिदान से
स्वतंत्रा हुए है हम
कोई पूछे कोन हो
तो गर्व से कहेंगे
भारतीय है हम

नहीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना,
ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना,
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना,
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना,
हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के,
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के….||

महान देशभक्तों के बलिदान से आजाद हुए हैं हम,
इसलिए उनके सम्मान में आज इकट्ठा हुए हैं हम।

दुश्मन की गोलियों का हम करेंगे सामना,
जो बुरी नजर रखे भारत पर, नामोनिशान है उसका मिटाना।

Shayari for Republic Day in Hindi

अलग है भाषा, धर्म जात,
और प्रांत, भेष, परिवेश,
पर हम सब का एक ही गौरव है,
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ।

वो शमा जो काम आये अंजुमन के लिए,
वो जज्बा जो कुर्बान हो जाये वतन के लिए,
रखते है हम वो हौसले भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए ।

इस दिन के लिए वीरो ने अपना खून बहाया है,
झूम उठो देशवासियो गणतंत्र दिवस फिर आया है |
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये

आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा,
तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा,
हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा,
यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा
Indian Republic day 2020 की शुभकामनाये

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है।

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये।

71th Republic Day Shayari

याद रखेंगे वीरो तुमको हरदम,
यह बलिदान तुम्हारा है,
हमको तो है जान से प्यारा यह गणतंत्र हमारा है।

कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिंदुस्तान के सम्मान का है।

वतन हमारा मिसाल मोहब्बत की
तोड़ता है दीवार नफरत की
मेरी खुश नसीबी मिली ज़िन्दगी इस चमन में .
भुला न सके कोई इसकी खुशबु सातों जनम में।

देश भक्तो की बलिदान से स्वतंत्र हुए है हम
कोई पूछे कोन हो तो गर्व से कहेंगे भारतीय है हम।

लड़े जंग वीरों की तरह,
जब खून खौल फौलाद हुआ
मरते दम तक डटे रहे वो,
तब ही तो देश आजाद हुआ।

शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो,
होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो।

Best Shayari for Republic Day

गांधी स्वपन जब सत्य बना
देश तभी गणतंत्र बना
जरा याद करों वीरो की कुर्बानी
जिससे देश गणतंत्र बना।
Happy republic day 2020

मेरे जज़्बातों से इस कदर वाकिफ है मेरी कलम,
मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो इंकलाब लिख जाता है ।

चलो फिर से खुद को जागते है
अनुसासन का डंडा फिर घूमाते है
सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहीदो के लहू से
ऐसे सहीदो को हम सब सर झुकाते ।

ना जियो धर्म के नाम पर,
ना मरो धर्म के नाम पर,
इंसानियत ही है धर्म वतन का बस जियों वतन के नाम पर।

जिसे सींचा लहू से है वो यूँ खो नहीं सकती,
सियासत चाह कर विष बीज हरगिज बो नहीं सकती,
वतन के नाम पर जीना वतन के नाम मर जाना,
शहादत से बड़ी कोई इबादत हो नहीं सकती।

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा
ये मुल्क मेरी जान है
इसकी रक्षा के लिए
मेरा दिल और जां कुर्बान है।

Republic Day par Shayari

तुझको नमन ऐ मेरे वतन,
महिमा तेरी मैं क्या कहूं?
तेरे गुणों का गुणगान,
मैं हरदम यूं ही करती रहूं।
गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

भलाई ये कि आज़ादी से उल्फ़त तुम भी रखते हो
बुराई ये कि आज़ादी से उल्फ़त हम भी रखते हैं ।

मेरे देश का मान हमेशा बनाये रखूँगा
दिल तो क्या जान भी इस पर निछावर करूँगा
अगर मिले मौका देश के काम आने का
तो बिना कफ़न के ही देश के लिए सो जाऊंगा ।