गणतंत्र दिवस गीत 2020 – 26 जनवरी के गीत- Indian Republic Day Desh Bhakti Geet

गणतंत्र दिवस गीत 2018
Contents [show]
26 january 2020 | 71st republic day : भारतीय गणतंत्र दिवस हर साल 26 जनवरी पर मनाया जाता है | यह दिन हमारे देश और हम सब भारतीय नागरिकों के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इस दिन हमारे देश का सविंधान जारी किया गया था| गणतंत्र दिवस के उपलक्ष पर स्कूल, कॉलेज के बच्चे अपने विद्यालय में स्कूल फंक्शन में freedom fighters की ड्रेस पेहेन कर cultural program को celebrate करते हैं जिसमे वो republic day geet download, 26 january geet 2020, 2020, mp3, रिपब्लिक डे गीत lyrics in hindi गाते व प्रस्तुत करते हैं| आइये देखें कुछ best गणतंत्र दिवस गीत हिंदी में जिसे आप save व pdf download कर सकते हैं|
26 जनवरी के गीत

गणतंत्र दिवस पर गीत

26 जनवरी क्यों मनाई जाती है: भारत में गणतंत्र और संविधान की स्थापना के उपलक्ष में यह दिन मनाया जाता है |
अगर आप राष्ट्रीय गीत, भोजपुरी देशभक्ति गीत desh bhakti.d.j देशभक्ति गीत mp3 देशभक्ति गीत भारत हमको जान से प्यारा है, देशभक्ति स्वागत गीत लिस्ट, वीडियो सांग, देश भक्ति गीत in written, देश भक्ति गीत pdf सांग्स desh bhakti song फिल्मी गीत, फ़िल्मी गीत, डाउनलोड, कविता मराठी में जानना चाहते है तो यहाँ से जान सकते है| Gantantra diwas Geet इस प्रकार हैं:

26 january songs in written – Hindi language

71th Republic Day पर गीत
अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं
हमने सदियों में ये आज़ादी की नेमत पाई है
सैकड़ों क़ुरबानियाँ देकर ये दौलत पाई है
मुस्कराकर खाई हैं सीनों पे अपने गोलियाँ
कितने वीरानों से गुज़रे हैं तो जन्नत पाई है
ख़ाक में हम अपनी इज़्ज़त को मिला सकते नहीं
क्या चलेगी ज़ुल्म की अहले वफ़ा के सामने
जा नहीं सकता कोई शोला हवा के सामने
लाख फ़ौजें ले के आई अमन का दुश्मन कोई
रुक नहीं सकता हमारी एकता के सामने
हम वो पत्थर हैं जिसे दुश्मन हिला सकते नहीं
वक़्त की आज़ादी के हम साथ चलते जाएंगे
हर क़दम पर ज़िंदगी का रुख़ बदलते जाएंगे
गर वतन में भी मिलेगा कोई गद्दार-ए-वतन
अपनी ताक़त से हम उसका सर कुचलते जाएंगे
एक धोखा खा चुके हैं और खा सकते नहीं
Republic Day Song in Hindi Text Font
तू ना रोना, के तू है भगत सिंह की माँ
मर के भी लाल तेरा मरेगा नहीं
डोली चढ़के तो लाते है दुल्हन सभी
हँसके हर कोई फाँसी चढ़ेगा नहीं
जलते भी गये कहते भी गये
आज़ादी के परवाने
जीना तो उसीका जीना है
जो मरना देश पर जाने
जब शहीदों की डोली उठे धूम से
देशवालों तुम आँसू बहाना नहीं
पर मनाओ जब आज़ाद भारत का दिन
उस घड़ी तुम हमें भूल जाना नहीं